DRAKSHAVLEHA (Kesar Yukta) द्राक्षावलेह केशर युक्त
KRISHNA GOPAL AYURVED BHAWAN, KALERA DRAKSHAVLEHA (Kesar Yukta) द्राक्षावलेह केशर युक्त - 250gm
  • KRISHNA GOPAL AYURVED BHAWAN, KALERA DRAKSHAVLEHA (Kesar Yukta) द्राक्षावलेह केशर युक्त - 250gm
  • KRISHNA GOPAL AYURVED BHAWAN, KALERA DRAKSHAVLEHA (Kesar Yukta) द्राक्षावलेह केशर युक्त - 250gm

KRISHNA GOPAL AYURVED BHAWAN, KALERA

DRAKSHAVLEHA (Kesar Yukta) द्राक्षावलेह केशर युक्त

5.0
Ratings

₹ 525


Delivery Options


द्राक्षावलेह (केशरयुक्त) एक ही औषधि दर्जनों लाभ...
शराब सेवन इत्यादि से लीवर की कमजोरी को दूर करने के लिए द्राक्षावलेह श्रेष्ठ ओषधि साबित होता है।

यह रसायन है अर्थात यह शरीर को बल प्रदान करता है।
शरीर में विभिन्न विटामिन्स और खनिज की कमी को दूर करता है। 
इसके अतिरिक्त खून की कमी को दूर करने में भी लाभदाई होता है। 
सम्पूर्ण शरीर में ऊर्जा का संचार करता है।

कफ खांसी, जुकाम स्वसन तंत्र के विकारों को दूर करने के लिए भी यह लाभदाई होता है।

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करता है।

पित्त को संतुलित कर भूख को जाग्रत करने में लाभदाई है एंव पाचन तंत्र विकारों में भी लाभदाई है।

पांडू रोग (खून की कमी) को दूर करने में लाभकारी।

जौंडिस विकार में प्रभावी होता है।

अम्लपित्त (Acidity), रक्तपित्त, दाह (जलन) को दूर करने में लाभकारी।

क्षय और भ्रम (याददास्त की कमी) मानसिक कमजोरी में लाभकारी।

अम्लपित्त(एसिडिटी) में अत्यंत ही उपयोगी।

भोजन में अरुचि, भूख की कमी और मन्दाग्नि को दूर करता है।

रक्तार्श (खूनी बवासीर) की दाह (जलन) में लाभकारी।

यकृत,लीवर के विकारों में लाभकारी।

पाण्डु,कामला,(पिलिया) में लाभकारी है।

पुरानी कब्ज को दूर करे।

छाती में किसी भी प्रकार की जलन को दूर करने के लिए उत्तम है।

घटकद्वव्य :-मुनक्का,गौ-घृत,शक्कर,जायफल ,जावित्री,छोटी-इलायची,वंशलोचन,लोंग ,दालचीनी,तेजपत्र,नागकेशर,कमल गट्टे की गिरी,केशर।
सहायक द्रव्य:- दूध,जल। 

मात्रा 10 -20  ग्राम दिन में एक-दो बार दूध से(वैद्य/चिकित्सक की सलाहनुसार)


5.0
Based on 1 reviews
5
1
4
0
3
0
2
0
1
0