अणु तेल 15ml
अणु तेल 15ml
  • अणु तेल 15ml
  • अणु तेल 15ml

अणु तेल 15ml

₹ 80


Delivery Options


अणु तेल" एक प्रकार का आयुर्वेदिक हर्बल तेल है जो परंपरागत रूप से आयुर्वेद में नाक प्रशासन के लिए उपयोग किया जाता है। यह विभिन्न जड़ी बूटियों और तेलों के संयोजन से बना है, जिसमें तिल का तेल, कपूर और कई अन्य सामग्री शामिल हैं।

आयुर्वेद में अणु तेल का उपयोग इसके चिकित्सीय लाभों के लिए किया जाता है, जैसे कि नाक मार्ग के कामकाज में सुधार, सूजन को कम करना और समग्र श्वसन स्वास्थ्य को बढ़ावा देना। ऐसा माना जाता है कि यह साइनसाइटिस, एलर्जी और अन्य श्वसन समस्याओं जैसी स्थितियों के लक्षणों को दूर करने में मदद करता है।

आयुर्वेद में, अनु तेल को आमतौर पर नस्य नामक एक प्रक्रिया के माध्यम से प्रशासित किया जाता है, जिसमें नासिका मार्ग में तेल का अनुप्रयोग शामिल होता है। यह सिर को थोड़ा पीछे झुकाकर और प्रत्येक नथुने में तेल की कुछ बूंदों को डालकर किया जाता है। इसके बाद तेल को सर्कुलर मोशन में धीरे-धीरे नासिका मार्ग में मालिश किया जाता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अनु तेल का उपयोग केवल एक योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में ही किया जाना चाहिए, क्योंकि अनुचित प्रशासन या अति प्रयोग से प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

 घटक :- श्वेत चन्दन, अगर, तेजपात, दारुहल्दी, मुलेठी, वासामूल, छोटी इलायची, वायविडंग, बेलछाल, कमल गट्टा, नेत्रबाला, खश, नगरमोथा, दालचीनी, अनन्तमूल, शालपर्णी, प्रश्नपर्णी, जीवन्ति, देवदार, शतावर, कमल केशर

रोगाधिकार :- ऊधर्व जत्रुगत विकार, त्रिदोष नाशक, इन्द्रिय बल वर्धक, शिर:शूल, मन्या स्तंभ, हनुस्तंभ, जीर्ण प्रतिश्याय में लाभदायक


सेवन विधि :- रात को सोने से पहले नासिका में एक -एक बूंद डालें


No Customer Reviews

Share your thoughts with other customers